Top Ghalib Shayari in Hindi 2021 क़र्ज़ की पीते थे मय लेकिन समझते थे कि हां। रंग लावेगी हमारी फ़ाक़ा-मस्ती एक दिन।। Karz ki peete the may lekin samajhte the ki haan. rang laavegee hamaaree faaqa-mastee ek din.. उग रहा है...